Ek Ajeeb Gutthi

“मनुष्य का मन भी एक अजीब गुत्थी है
बदलना चाहे तो एक पल भी बहुमूल्य है
और न बदलना चाहें तो शायद वर्षों का समय भी कम है”

Leave a Reply

Name *
Email *
Website