Subeh Hone Se Pehle

“चेहरे पर ख़ुशी,आँखों में आंसू
जैसे सावन की धूप में बारिश की बूंदे”

“सुबह होने से पहले
अंधेरा घाना हो जाता है
जो यह जानते हैं
उनके लिए यह सुसमाचार है”

“आँखों में कुछ आंसू और कुछ सपने हैं
ये आंसू और सपने दोनों ही अपने हैं”

Leave a Reply

Name *
Email *
Website